Latest / Breaking
Latest / Breaking
Thursday, September 23, 2021

पैंगोंग के दक्षिणी किनारे से पीछे हट रहे हैं चीनी टैंक, सामने आया तस्वीर

पैंगोग झील के दक्षिणी किनारे से चीन ने अपने टैंकों को पीछे हटाना शुरू कर दिया है. इससे पहले दोनों देशों के बीच कमांडर स्‍तर की बातचीत हुई थी.

लद्दाख ( Ladakh) में एलएसी (LAC) पर भारत और चीन के बीच गतिरोध खत्‍म होने की शुरूआत हो गई है. इसी प्रक्रिया के तहत गुरुवार को पैंगोग झील के दक्षिणी किनारे से चीन ने अपने टैंकों को पीछे हटाना शुरू कर दिया है. न्‍यूज एजेंसी एएनआई ने इसका एक वीडियो जारी किया है, जिसमें पीछे हटते हुए टैंक साफ तौर पर देखे जा सकते हैं. बुधवार को दोनों देशों के लोकल कमांडर्स के बीच बैठक हुई थी.

इससे पहले, चीनी रक्षा मंत्रालय ने दावा किया है कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर पर तैनात भारत और चीन के फॉरवर्ड पोस्ट पर तैनात सैनिकों ने बुधवार से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया. हालांकि अब तक भारतीय पक्ष की ओर से इस बारे में कोई टिप्पणी नहीं आई है. चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल वु कियान ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों पर तैनात भारत और चीन के अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने बुधवार से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया.

कियान ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि भारत और चीन के बीच कमांडर स्तर की नौवें दौर की वार्ता में बनी सहमति के मुताहित दोनों देशों के सशस्त्र बलों की अग्रिम पंक्ति की इकाइयों ने 10 फरवरी से पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से व्यवस्थित तरीके से पीछे हटना शुरू कर दिया. उल्लेखनीय है कि दोनों देशों के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से सैन्य गतिरोध चला आ रहा है.

वहीं 24 जनवरी को दो सेनाओं के सैन्य कमांडरों द्वारा जल्द से जल्द सेनाओं को पीछे करने पर जोर देने के लिए सहमत होने के बाद पैंगोग के दक्षिणी तट पर टैंकों और पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों की वापसी ने 10 महीने के सैन्य गतिरोध के हल की उम्मीद जगाई है.
48 घंटों में होनी है बातचीत
केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को दिए हैं. उन्होंने कहा है कि लद्दाख में पैंगॉन्ग झील के उत्तर और दक्षिण किनारे पर चीन के साथ सहमति बन गई है. चीन इस क्षेत्र से अपनी सेना को हटाने के लिए तैयार हो गया है. भारत-चीन सेना के बीच समझौते की बात को लेकर रक्षा मंत्री ने कहा है कि दोनों देशों के बीच सीनियर कमांडर स्तर की एक मीटिंग होगी. यह मीटिंग 48 घंटों के भीतर होनी है. कहा जा रहा है कि इस बातचीत में सीमा पर तनाव का कारण बने दूसरे मुद्दों पर भी बात की जाएगी.
दोनों सेनाओं की लोकेशन बदलेगी
इस समझौते के हिसाब से दोनों सेनाएं अग्रिम मोर्चे पर लौटेंगी. इसके बाद चीन की सेना नॉर्थ बैंक में फिंगर 8 की पूर्व दिशा की तरफ होगी. जबकि, भारतीय सेना की टुकड़ियां फिंगर 3 के पास स्थायी बेस धन सिंह थापा पोस्ट पर होंगी. वहीं, दक्षिण किनारे को लेकर भी सेनाएं इसी तरह की कार्रवाई करेंगी.